Amjhar Sharif

अमझर शरीफ जिला मुख्‍यालय से ५० कि0 मी0 की दूरी पर हसपुरा प्रखंड मुख्‍यालय से १ कि0 मी0 दूरी पर स्थित हैा यहॉ कादरी सिलसीला के सूफी संत सैययदना मोहम्‍मद कादरी १६ वी0 शताब्‍दी में बगदाद से आये थे ा मोहम्‍मद शरीफ में सैययदना साहब की खानकाह कादरिया में स्थित हैा गोह स्थित देवकुण्‍ड एवं अमझर शरीफ संतो के बीच तौहार्दपूर्ण एवं आत्‍मीया संबंध की परम्‍परा का आज भी निर्वहन किया जाता हैा स्‍थानीय लोगों एवं देवकुण्‍ड मठ के प्रभारी मठाधीश के अनुसार जब भी नये मठाधीश  की ताजकोशी देवकुण्‍ड में होती है तो इसके लिये चादर अमझर शरीफ से जाताहैा चैत नवमी एवं रामनवमी को खानकाह में वृहत मेले का आयोजन किया जाता हैा प्रत्‍येक व‍ष

पहली रविउल्‍ल अव्‍वल बाबा सैययदना साहब का सलाना उर्स खानकाह कादरिया में मनाया जाता हैा

खानकाह कादरिया परिसर में पाये जाने वालो अजनाश पौधा के विसय में बताया जात है कि इसे बाबा सैययदना ने अपने साथ बगदाद से ही लाया था ा इसकी विशेसता यह है कि इसके समीप कोई भी जहरीला सापॅ नही आता परन्‍तु प्रयास के बाद भी इस पौधे को इस परिसर के बाहर नही उगाया जा सकता हैा वर्तमान पे सैययदना साहब के परिवर्तिपिढी के सर्फउदीन मोहम्‍मद नैययर कादरी यहॉ के प्रभारी हैा